रविवार, 17 अगस्त 2014

आशुतोष द्विवेदी की रचनाएँ


चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार

तुमसे मिलन की आस तो है..



बहुत गहरे में कहीं तुमसे मिलन की आस तो है |
अधर गर्वीले नकारें लाख फिर भी प्यास तो है ||

शून्यता तो है कहीं जो बिन तुम्हारे भर न पाती,
इक चुभन भी है कि जो पीछे पड़ी दिन-रात मेरे |
दो नयन जादू भरे इस भाँति भीतर बस गए हैं,
भूल पाना अब जिन्हें, बस की नहीं है बात मेरे |
सौ बहाने मैं बना लूँ, झूम लूँ या गुनगुना लूँ ;
चित्त को अपनी अधूरी नियति का आभास तो है |

भूल जाऊँ किस तरह बेबाक होठों की शरारत ?
सेब जैसे रंग वाले गाल कैसे भूल जाऊँ ?
तारकों की पंक्तियों को मात करती मुस्कुराहट,
और चंदा को लजाता भाल कैसे भूल जाऊँ ?
आवरण मैं लाख डालूँ, स्वयं को खुद से छिपा लूँ;
पर जहां 'मैं' तक नहीं वह भी तुम्हारा वास तो है |

महकता आँचल कि जिसमें खिल उठे थे स्वप्न मेरे,
बिखरती अलकें कि जिनमें खो गयी मेरी जवानी |
थिरकते सब अंग, पुलकित रोम, गदरायी उमर वो;
बहकती जिनमें दिवानी हो गयी मेरी जवानी |
यम-नियम के ढोंग सारे, हर जतन के बाद हारे;
और मेरी इस पराजय का तुम्हें अहसास तो है |

देह की मधु-गंध नंदन को अकिंचन सिद्ध करती,
स्नेह-भीना स्पर्श मेरे प्राण में पीयूष भरता |
वत्सला चितवन सिखाती अप्सराओं को समर्पण,
और आलिंगन तुम्हारा मृत्यु का उपहास करता |
वे मधुर सुधियाँ बुलातीं, विरह की दूरी घटातीं;
गहनतम अँधियार में यह झलकता विश्वास तो है |
                                                                       


प्रश्न



आज फिर कुछ तप्त-लोहित प्रश्न मेरे सामने हैं
और ये अंगार मुझको कर-तलों में थामने हैं

प्रश्न - मैं क्यों जी रहा हूँ ?                           क्या बचाना चाहता हूँ?
रक्त सा क्या पी रहा हूँ?                             क्या मिटाना चाहता हूँ ?
ज़िन्दगी सन्यास जैसी;                               क्या  छिपाना चाहता हूँ ?
कल्पना मधुमास जैसी ?                             क्या  दिखाना चाहता हूँ?
संस्कृति के गीत गाता;                               पल रहा प्रतिशोध कैसा?
कंठ में गाँठें लगाता ?                               एक सतत विरोध कैसा?
काइयाँपन खून में है?                                बेहया मुस्कान मुख पर !
सभ्यता पतलून में है ?                              शराफत की शान मुख पर !
फोन पर रिश्ते निभाता;                              क्रांति के उपदेश घर पर;  
प्यार पर कविता सुनाता ?                            और दफ़्तर - सिर्फ "यस सर" ?
भीड़ का हो चुका जीवन;                              नौकरी क्यों कर रहा हूँ ?
भीड़ से भयभीत है मन ?                            रोज़ घुट-घुट मर रहा हूँ ?
कुछ नहीं अपनी खबर है;                             मोह है परिवार से भी;
खो न जाँऊ, मगर, डर है ?                           ऊबता इस भार से भी?
भटकता भ्रम के धुएं में?                             मुक्ति की दरकार भी है;
या कि मेंढक सा कुएं में?                            बन्धनों से प्यार भी है ?
कवच में खुद को लपेटे?                             वृद्ध संयम जूझता, फिर उलझता
किसी कछुए सा समेटे ?                             है जटिलता में,
                                                                संशयों के सूत्र सारे पकड़ रखे
                                                                काम ने हैं..........
                                                                आज फिर……...
                                                                             


 हाँ! मैं जीवित हूँ


बालकनी पर शाम उतरती है तो मैं फिर जी उठता हूँ |
शाम पांच चालीस होते ही ऑफिस के उस मुर्दा घर से,
बीस-इकीस लाशों को लेकर,
एम्बुलेंस के जैसी छोटी बस (जिसको 'चार्टर्ड' कहते हैं)
आ जाती है छः चालीस तक,
और छोड़ जाती है सब लाशों को अपने-अपने घर तक |
घर, जिनमे 'घर' का प्रतिशत कितना है - यह मालूम नहीं है |
हाँ, दीवारें हैं, छत है और छोटी बालकनी भी |

मरे हुए इन लोगों में ही एक लाश मेरी भी है जो,
लिफ्ट पकड़कर चढ़ जाती है सबसे ऊपर की मंजिल पर |
चारदिवारी घिरी हुई है, छत भी है और बालकनी भी |
'घर' का प्रतिशत कितना है? शायद कुछ भी तो नहीं; और क्या?
दिन भर के उन कसे हुए कपड़ों के बंधन ढीले करके,
बालकनी पर आ जाता हूँ;
और बुझी आँखों से देखा करता हूँ ढलते सूरज को |

सिन्दूरी वह शाम अचानक जादू जैसे कर देती है;
भीतर बिखरे अंधियारे पर एक उजाला छा जाता है;
जाते-जाते सूरज कोई नयी प्रेरणा दे जाता है;
कुछ आशाएं भर जाता है, कुछ विश्वास बंधा जाता है;
इस उमंग में पागल होकर धड़कन थिरक-थिरक उठती है;
रोम-रोम अंतर-वीणा की झंकृति से पुलकित होता है;
और श्वास जो अब तक ठहरी थी, फिर से चलने लगती है;
कहीं दूर, गहरे भावों के स्वर गुंजित होने लगते हैं --
"हाँ! मैं जीवित हूँ, मैं मरा नहीं हूँ;  हाँ! हाँ! मैं जीवित हूँ |"


आशुतोष द्विवेदी

भारतीय राजदूतावास,
अद्दिस अबाबा,
इथियोपिया




आशुतोष द्विवेदी 


  • जन्म-तिथि : २ जून १९८२ 
  • जन्म-स्थान : कानपुर, उत्तर प्रदेश 
  • स्थानीय पता : भारतीय राजदूतावास (इंडियन एम्बेसी), अद्दिस अबाबा, इथियोपिया   
  • स्थाई पता : २/१६, कमला नगर, कानपुर, उत्तर प्रदेश 
  • शिक्षा : परास्नातक, गणित, इलाहाबाद विश्वविद्यालय  
  • व्यवसाय : भारतीय विदेश सेवा (ब), विदेश मंत्रालय, नई दिल्ली 
  • रचना-कर्म : १९९४ से काव्य-रचना - विभिन्न विधाओं में, जैसे- छंद (घनाक्षरी, सवैया, दोहा, संस्कृत-वर्णवृत्त), गीत, ग़ज़ल, मुक्तक |  कुछ मंचों पर एवं कई गोष्ठियों में काव्य-पाठ | विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में फुटकर प्रकाशन | इन्टरनेट पर kavyanchal.com आदि पर कुछ रचनाओं का संकलन | एक निजी ब्लॉगdwivediashutosh.blogspot.com पर भी कुछ रचनायें उपलब्ध |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें