सोमवार, 29 फ़रवरी 2016

दौड़ एवं अन्य कविताएं-संजीव ठाकुर


विनोद शाही की कलाकृति


दौड़


वे पहुँच गए वहाँ
जहां उन्हें पहुंचना था
अब वे उससे आगे
पहुँचने की तैयारी में हैं ।
मेरे लिए वहाँ तक
पहुंचना
नामुमकिन तो रहा ही
उस रास्ते का पता भी लापता रहा
मैं देखता रहा सबको
आगे –
और आगे जाते हुये
मैं कर भी क्या सकता था
इसके सिवा ?


मित्र


वे देते रहते थे मुझे
जीने की दुआएं
और कब्रिस्तान के किसी कोने में बैठे
काले कपड़े वाले बाबा से
करवाया करते थे काला जादू
मेरे सर्वनाश के लिए ।
उनकी इस दोगली चाल का
क्या करें ?
भिजवाते थे प्रसाद
वैष्णो देवी का
और मेरे सत्यानाश को
किया करते थे
बगुलामुखी का जाप !


क्या करते होंगे ?


क्या करते होंगे रुपयों का
कुबेर के नाती ?
गद्दों में भरवाते होंगे?
सजाते होंगे चिता
मृतकों को जलाते होंगे
इस्तेमाल करते होंगे
टॉइलेट पेपर की तरह ?
नाक का नेटा पोंछ फेंक देते होंगे ?
सेनेटेरी नैप्किन खरीदने की जहमत से
बच जाती होंगी उनकी स्त्रियाँ ?
फेंक देती होंगी डस्ट्बिन में
खून सनी गड्डियाँ ?
रगड़ती होगी आया
दस की गड्डी से
उनके घरों में बर्तन
और सहलाती होंगी
अपने कुत्ता –मूते नसीब को

मन-ही –मन ?
कितने खुश होते होंगे
कुबेर के वंशज
बाथरूम से निकलकर
रुपयों के पायदान पर
गीली स्लीपर रखकर
खड़े होते वक्त !


ज़िंदगी


आकाश में
घर बनाने की कोशिश
ही तो है यह ज़िंदगी
मुर्दा सम्बन्धों की ईटों को ढोकर
वहाँ तक पहुंचाना
आसान भी तो नहीं ?


संजीव ठाकुर


  • जन्म-1967 (मुंगेर, बिहार)
  • शिक्षा- पीएचडी (दिल्ली विश्वविद्यालय)
  • प्रकाशन-नौटंकी जा रही है फ्रीलान्स  ज़िंदगी, अब आप आली अनवर से, प्रेम सम्बन्धों की कहानियाँ (कहानी –संग्रह), झौवा-बैहार (लघु –उपन्यास), इस साज़ पर गाया नहीं जाता (कविता-संग्रह), बच्चों के लिए पंद्रह किताबें । 
  • संप्रति-स्वतंत्र  लेखन 
  • निवास-सिद्ध विनायक अपार्टमेंट, अभय खंड, इंदरापुरम, गाजियाबाद 
  • संपर्क-0120 4116718 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें