मंगलवार, 22 मार्च 2016

रंग बरसे: अंसार क़म्बरी की ग़ज़ल


चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार


दिन सुहाने आ गये..



खिल उठीं सरसों की कलियाँ दिन सुहाने आ गये
आ गया फागुन कि हर बाली में दाने आ गये

फूल महुवे के झरे मौसम शराबी हो गया
आम के बाग़ों में खुशबू के ख़ज़ाने आ गये

आ गया फागुन मेरे कमरे के रौशनदान में
चन्द गौरय्यों  के जोड़े घर बसाने आ गये

नाचती-गाती हुई निकलीं सड़क पर टोलियाँ
चन्द चेहरे खिड़कियों में मुस्कुराने आ गये

एकता सदभावना के शे'र लेकर ‘क़म्बरी’
रंग की महफ़िल में लो होली मनाने आ गये


अंसार क़म्बरी


‘ज़फ़र मंजिल’, 11/116,
ग्वालटोली, कानपूर–208001
मो - 09450938629
ईमेल : ansarqumbari@gmail.com

1 टिप्पणी:

  1. अच्छा शब्द संयोजन भाव व विषय वस्तु की तारतम्यता अखरती सी ।अच्छा प्रयास ।बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं